Labels

Thursday, October 30, 2008

मेरी बौद्ध यात्रा

ज्ञान जीवन है, अज्ञानता अभिशाप !

मैं लगातार ज्ञान प्राप्त कर सफल होने का उदाहरण हूं,
जहां मैं कल कमजोर था, वहां मैं आज समक्ष हूं,
जहां मैं संदेह से घिरा था, वहां मैं आज सुनिश्चित हूं
आओ दोस्तों ! यही समय है ! मेरे अनुभवों से सीखने का।

v शिक्षा का अर्थ मात्र नौकरी पाना या धन कमाना ही है, बल्कि सम्पूर्ण व्यक्तित्व का विकास करना है।
v शिक्षा द्वारा चरित्र का निर्माण होता है, मस्तिष्क की शक्ति बढ़ती है, बुद्धि का विकास होता है और मनुष्य अपने पैरों पर खड़ा हो सकता है।
: स्वामी विवेका नंद जी
v धन वह इक्कठा करो जो तुम्हारी रक्षा करे ।
न कि वह जिस की रक्षा तुम्हें करनी पड़ ।

No comments: