Labels

Monday, June 16, 2014

अकल

अकल

मैं अपने दोस्त के घर बैठा था।  उसी समय उसकी छोटी बहन अपना सामान और अपने बच्चों को लिए कमरे से निकली और मेरे दोस्त यानि अपने भाई को कहा "अच्छा भैया मैं चलती हूँ " "अभी इतनी जल्दी?" मेरे दोस्त ने कहा।

"बिबाहित लड़कियां अपने ससुराल में ही अच्छी लगती है उनका ससुराल ही उनका मायका होता है।  कहते हैं न कि कदर खो देता है रोज का आना जाना।  दो तीन दिन से ज्यादा मायके में रहो तो लोग बातें करने लग जाते है "

"है तू मेरे से छोई पर बातें बड़ी अकल की करती है " मेरा दोस्त और में खड़े हो गए।  बहन ने बड़े प्यार से हमें आलिंगन किया और चल दी।  आँखों में आंसू थे।  कानो में उसकी अकल से भरे शब्द।  हम दोनों ने उसका सामान उठाया और उसे स्टेशन तक छोड़ने चले गए।


If you want to go quickly, go alone.
If you want to go far, go with others.
              - African Proverb.

Patience pays:

धीरे धीरे रे मना धीरे सब कुछ हो
माली सीचे सौ घड़ा रुत आये फल हो
 

No comments: