Labels

Thursday, December 22, 2016

भारत में मकान कैसे बनायें ?


How to build a house in India?Image result for small houses 

भारत में मकान कैसे बनायें ? 
इस ब्लॉग को पड़ने के लिए धन्यबाद। 

किरायेदारों  के लिए खुशखबरी।

जैसे ही मकान की बात करें तो मन घबरा जाता है।  मन मैं बड़े भयानक डरावने विचार आने शुरू हो जाते हैं।  क्योंकि हमने ऐसे लोगों से मकान बनाने की नकारत्मक अनुभव सुने होते हैं।  यह अनुभव कैसे होते हैं :
1 . मकान बनाना बहुत ही कठिन काम है।
2 . मकान बनाने के लिए मजदूर सही नहीं मिलते हैं।
3 . मज़दूर तंग बहुत करते हैं।
4 . बनाने बाले मिस्री मकान बनाने से पहले लागत 1०००  रूपए बताएं तो असलियत में 5000 रूपए लगते हैं।
5 . जीवन भर की कमाई लग गई परंतु मकान अभी भी पूरा नहीं बना।

यह कुछ ऐसी बातें हैं जिनको सुन कर जिसके पास मकान नहीं है  उसका अपना घर बनाने का हौसला ही टूट जाता है।  इस लेख को पड़ने के बाद आप का मन अपना घर बनाने के लिए उत्साहित हो जायेगा और आप अपने छोटे से बजट में भी अपना छोटा सा मकान बना कर अपने मां बाप या अपने बीबी बच्चों के साथ हंसी ख़ुशी और सुख से मालिक की तरह जीवन जी सकेंगे।

मान लें आप की तनखाह या इनकम 10000 रूपए महीना है।  एक साल मैं आप ने 1.20 लाख रूपए कमाए।  और आप किराये पर रह कर कम से कम 2500 रूपए किराया दे रहे हैं।  यानि एक साल में 30000 रूपए किराया देते हैं।  तो क्या करें :

1 . आधार कार्ड दे कर अपना इनकम टैक्स डिपार्टमेंट मैं रजिस्ट्रेशन करवाएं और पैन (PAN) कार्ड बनबाये।
2 . घबराएं नहीं पैन (PAN) कार्ड कोई आप से इनकम टैक्स नहीं मांगता।  यह आधार कार्ड की तरह ही है।
3 . इस पैन (PAN) कार्ड के बाद इनकम टैक्स की रिटर्न भरें।  रिटर्न भरने का मतलब यह नहीं कि आप ने इनकम टैक्स भी भरना।  इनकम टैक्स तभी भरा जाता है जब आप की इनकम मिनिमम आय से अधिक हो।  2015 -16 साल के लिए यह सीमा 2. 70 लाख है।  रिटर्न भरने से पहले इस सीमा की दोबारा कन्फर्म करलें।
4 . अब एक छोटा सा 25 गज से 100 गज का जमीन का टुकड़ा खरीदें।  इसकी रजिस्ट्री करवाएं।
5 . अब इस रजिस्ट्री को बैंक में दे कर , मकान बनाने के लिए लोन लें।  यह लोन किश्तों में 10 , 15 ,20 या 30 साल में बापिस  किया जा सकता है।  लोन की किश्त 1000 रूपए प्रति 1 लाख के करीब है।  बाकि आप खुद बैंक से पूछ सकते हैं।

इस तरह से जो किराया आप दे रहे हैं बही किश्त दे कर आप अपने मकान के मालिक बन सकते हैं।

अपने मकान में रहने के फायदे :
1 . मकान मालिक का दखल बंद।
2 . आपकी मानसिक स्थिति अधिक स्थिर और खुशनुमा होगी। घर के माहौल में ख़ुशी बढ़ेगी।
3 . जैसे जैसे बच्चे बड़े होंगे आप उनकी जरूरत के लिए मकान में कमरों की बढ़ोती  कर सकते हैं।
4 . बच्चे अपना मन अपनी पढ़ाई पर लगा सकेंगे।
5 . जब तक आप की किश्तें ख़त्म होंगी तब तक आपके मकान की मार्किट वैल्यू कम से कम तीन गुना बाद जाएगी।

आप अपना मकान बनाएंगे और उसमे रहेंगे तो सुख से ब्लॉगर को याद रखेंगे।  यही ब्लॉगर की ख़ुशी है।  
भला = लाभ     आपका भला ब्लॉगर का लाभ है।  करें ! करने से जिंदगी बदलती है।      सोच बदलें संसार बदलेगा।       बहरी संसार तो हमेशा से एक ही रहा है , रहेगा  केवल आंतरिक संसार बदलता है।  आदतें सुधरने से जीवन सुधर जाता है।  सदगुण इंसान को अर्श पर पहुंच देते हैं।








Pic courtesy: www.countryliving.com 

No comments: