Labels

Saturday, February 21, 2015

Gift of Life

जिंदगी

सीखते रहो      पढ़ते रहो     चलते रहो        बढ़ते रहो   जिंदगी चलने का नाम है   सफलता आपके हाथ में है  

जिंदगी सोचने और करने से बनती है सम्बर्ती है   केवल सोचने  य बातों से नहीं।

आप अपनी जिंदगी के खुद मालिक हो।

बनाने बाले ने आपको अपने जीवन को चलाने के लिए सब कुछ दिया है। उसका हर रोज धन्यवाद करें की उसने जीवन रूपी उपहार आपको दिया है

 अब आप अपने जीवन में सुगंध भरें या दुर्गन्ध मर्जी आपकी  है।  बुरी संगत  और आदतें अबगुण -पैदा करती हैं

सत्संगत  और अच्छी आदतें सद्गुण पैदा करके आपको महान बनाती।

गलती किस से नहीं होती।  दूसरों की गलतियां उछालो नहीं बल्कि उनसे सहानुभूति करके उनको दोवारा जीवन में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करें।

प्यार और सहानुभूति से संसार को जीता जा सकता है नफरत से नहीं।  मन में प्यार और सहानुभूति की ज्योति हमेशा जगाये रखें।

 अच्छे जीवन के लिए अपने खान पान ,चारों व् व्यव्हार (बचन व् आचरण )पर नियंत्रण जरुरी है।  आप सुखी परिवार , सुखी परिवारों के समूह राष्ट्र को सुखी बनाते हैं , सुखी समृद्ध राष्ट्र संसार को।  इसलिए परिवार सुखी संसार सुखी। 

No comments: