Labels

Tuesday, October 14, 2014

Track your thoughts.



I have received this email and sharing for the benefit of others.

Hi Prof Keshap,
Track your thoughts and pay attention
to what you're thinking

You may be surprised at what you find

Most of us really don't pay attention to our
thoughts even though they have a
huge impact on us

Our thoughts impact how we feel and they
can shape our lives, yet most of us don't
realize just how powerful our thoughts are

Your thoughts are powerful forces.
Thoughts become beliefs. You subconscious and
your inner powers pick up on your beliefs.
They create your life based on what you believe
and what you regularly think.

So if you have a number of negative thoughts then
there's a good chance you have a number of
negative beliefs tied to those thoughts

When you have a lot of negative beliefs your
subconscious and inner powers will create
a negative life. A life where things don't work
out, where you make the wrong choices and
where you fail instead of succeeding.
It's not the kind of life you desire,
yet it's the kind of life you'll create when
you have too many negative thoughts.

That's why it's important to pay attention
to what you're thinking. Should you find a number
of negative thoughts then you likely have a
lot of negative beliefs. And when you have a lot
of negative thoughts, and negative beliefs,
life will just get harder and harder.

Should you find any negative thoughts, change
them. Get rid of them.
Replace them and fill your mind
up with positive thoughts so that you
create positive beliefs

When you do that you give your subconscious
mind and inner powers new thoughts and
new beliefs. You give them new instructions
and once those new beliefs catch on, you change
your life, you go in a new direction and you
get more of what you desire

So today track your thoughts
Get rid of the negative thoughts and negative
beliefs. Give your subconscious mind new
instructions and new beliefs.
Ready to turn things around?
Ready to get your subconscious and inner powers
to bring you exactly what you desire?
Then take charge today and give your subconscious
and inner powers new instructions
Click Here to Get Started

What are negative thoughts?

They're thoughts that say you can't or
don't know how, these need to be changed or
eliminated as soon as possible.

See if you have any of the following
negative thoughts or thoughts which
are similar to these:

I can't
I don't know how
It's too hard
It will never work
I'm not smart enough
I have to make too many sacrifices
Life is hard
I can't make any money
There are no good men or women
Relationships are hard
I don't deserve
I was meant to suffer

Any of these sound familiar?

If they do then you've got a lot of
negative thoughts and negative beliefs

These will continue to hold you back and
prevent you from getting what you really desire

Now you might say that you're positive, yet
if you have any of those negative thoughts all
your positive thinking will be wiped out and
will be ineffective

That's why you have to get rid of your
negative thoughts and negative beliefs

You can try to do this on your own and you'll
probably be able to get rid of a few, yet over
time you'll develop more and more negative
thoughts and negative beliefs.

Or you could follow a simple and powerful
system that will wipe out those negative
thoughts and negative beliefs. In fact, you will
begin removing those negative thoughts and
negative beliefs in just a few days. You'll
also plant new positive thoughts and positive
beliefs so your subconscious and your inner powers
start bringing you what you desire.
Ready to take charge and begin enjoying
the life you desire? Then...
Click Here to Get Started

Any negative thoughts and negative beliefs you
may have were formed over your life span.

You likely didn't create many of these thoughts
and beliefs that are now holding you back.

Instead, like most people, you probably
picked them up from others, people like
your parents, friends, siblings, co-workers and
even people you just met.

You didn't know that these negative thoughts
would make your life harder and create so
much pain and struggle.

That's okay. Now you know.
And now you can get rid of them.
You can put an end to any hardship these
negative thoughts and negative beliefs are causing.
You can get your inner powers and your subconscious
mind to bring you what you desire - you just have
to give them the right messages - so take charge today:
Click Here to Get Started

Remember... track your thoughts,
get rid of the negative thoughts and
negative beliefs as they come up
Replace them with positive thoughts and
positive beliefs. You'll then direct your
subconscious and Inner Power to bring you
what you desire - take charge today
Click Here to Get Started


Wishing you continued success...


Karim Hajee
Creating Power



.
*************************************

www.creatingpower.com

.
.
.








.








.








.
 










 





Real Life








All that you have is this moment.
What will you do with your life?
Will you completely waste it?
On struggles, and conflicts and strife?

None of us are promised tomorrow.
We only have here and today.
Will you completely waste it?
You can't get it back once it's taken away.

And what of the persons your loving?
Do you take them for granted somehow?
Willl you completely waste it?
All that you fools disavow!

Do you follow the clear path of truth?
Or get lost in fields of the sordid and grey?
Will you completely waste it?
And have only regret of yesterday?


 



--

Wednesday, October 8, 2014

VADMULLA TEACHER

Vadmulla Teacher

अच्छे टीचर के मूल मन्त्र



इस किताब को  10 बार पड़ने से आपमें अच्छे टीचर के गुणों का संचार होना शुरू हो जायेगा।


यह आप पर निर्भर है कि आप अपने आप को कितने समय में सिखाते हैं।


 कोई किसी को किसी पड़ा नहीं सकता , कोई किसी को सीखा नहीं सकता।  यह इंसान के अपने परिश्रम पर निर्भर है।


 लेखक ने आज तक 16 सालों में 3000 से अधिक बच्चों को यही शिक्षा दी है और सभी अपने जीवन से संतुष्ट हैं। आत्म निर्भर हैं दूसरों पर बोझ नहीं है। 250 से अधिक बच्चे पड़ लिख कर दूसरों देशों जैसे ऑस्ट्रेलिआ , अमेरिका , कनाडा , न्यूज़ीलैंड  आदि में कामभूल  कर रहे हैं या पड़ रहे हैं। 



इस पुस्तक में लिखे सभी मन्त्र यानि तकनीकें बहुत ही सरल भाषा में लिखी गई  हैं ताकि आप इसे पड़ कर अपने जीवन में यथार्थ रूप से प्रयोग सकें और अपने टीचिंग कैरियर को सही दिशा दे सकें।




These techniques  of becoming good teacher, parents or professor are not taught in schools/colleges or universities while imparting training of ETT/JBT/B.Ed/M.Ed or M.A (Edu.)




यह पुस्तक त्रिभाषी  है।  इस पुस्तक में 80 % पंजाबी 5 %हिन्दी और 10 प्रतिशत अंग्रेजी का प्रयोग किया गया है।



इस पुस्तक को महान भारतबर्ष के संबिधान   में लिखी 18 भाषाओं  में लिखा जा रहा है।  इसका मन्तव् यह है की सभी टीचर्स के घर पर इस पुस्तक को बैसे पड़ा जाये जैसे कोई धर्मग्रन्थ।


 टीचर का  बच्चे के जीवन को सम्बारने में सबसे बड़ा योगदान होता है।  संसार का हर समाज अच्छे आदर्श टीचर का सम्मान करता है। बच्चे अपने माता पिता या बड़े बड़ों को सम्मान देना भूल जाते हैं परन्तु अच्छे टीचर को सम्मान देना नहीं भूलते।


ਵਡਮੁੱਲਾ ਟੀਚਰ 


ਚੰਗੇ ਟੀਚਰ ਬਣਨ ਲਈ ਮੂਲ ਮੰਤਰ 


ਇਸ ਕਿਤਾਬ ਨੂ ਦਸ ਬਾਰ ਪੜ੍ਹਨ ਨਾਲ ਤੁਹਾਡੀ ਪਰ੍ਸਨਾਲਿਟੀ ਵਿਚ ਆਪਣੇ ਆਪ ਇਕ ਚੰਗੇ ਟੀਚਰ ਬਣਨ ਦੇ ਗੁਣ ਆਣ ਲਗ ਪੈਣ ਗੇ। 


ਇਹ ਤੁਹਾਡੇ ਤੇ ਨਿਰਭਰ ਕਰਦਾ ਹੈ ਕਿ ਤੁਸੀਂ ਆਪਣੇ ਆਪ ਨੂ ਕਿਨੇ ਦਿਨਾਂ ਵਿਚ ਸਿਖਾਨੇ ਹੋ।  ਪੜਨਾ ਲਿਖਣਾ ਅਤੇ ਕੋਈ ਭੀ ਹੁਨਰ ਸਿਖਣਾ ਇਨਸਾਨ ਦੀ ਆਪਣੀ ਲਗਨ ਤੇ ਮੇਹਨਤ ਤੇ ਨਿਰਭਰ ਹੈ।  ਕੋਈ ਕਿਸੇ ਨੂੰ ਸਿਖਾ ਨਹੀ ਸਕਦਾ।  ਸਿਰਇ ਫ ਗਾਇਡ ਕਰ ਸਕਦਾ ਹੈ। 


ਲੇਖਕ ਨੇ ਪਿਛਲੇ 16 ਸਾਲਾਂ ਵਿਚ 3000 ਤੋਂ ਜਿਆਦਾ ਬਚਿਆਂ ਨੂੰ ਇਹੀ ਸਿਖਿਆ ਦਿਤੀ ਹੈ ਅਤੇ ਸਾਰੇ ਆਪਣੀ ਜਿੰਦਗੀ ਤੋਂ ਸੰਤੁਸ਼ਟ ਹਨ। ਆਤਮ ਨਿਰਭਰ ਹਨ।  ਕੋਇ ਕਿਸੇ ਤੇ ਬੋਜ੍ਹ ਨਹੀ ਹੈ। 


250 ਤੋੰ ਜਿਆਦਾ ਪੜਾਏ ਬਚੇ ਬਿਦੇਸ਼ਾਂ ਯਾਨੀ ਆਸਟ੍ਰੇਲੀਆ , ਕਨਾਡਾ , ਅਮੇਰਿਕਾ , ਨਿਉਜੀਲੈੰਡ ਅਤੇ ਹੋਰ ਦੇਸ਼ਾਂ ਵਿਚ ਰਹ ਰਹੇ ਹਨ ਜਾਂ ਪੜ੍ਹ ਰਹੇ ਹਨ। 


ਇਸ ਕਿਤਾਬ ਵਿੱਚ ਲਿਖੀਆਂ ਸਾਰੀਆਂ ਤਕਨੀਕਾਂ ਬੜੀ ਸੋਖੀ ਬੋਲੀ ਵਿੱਚ ਲਿਖੀਆਂਜਾ  ਗਯੀਆਂ ਹਨ ਤਾਕਿ ਤੁਸੀਂ ਇਹਨਾਂ ਤਕਨੀਕਾਂ ਨੂੰ ਪੜ੍ਹ ਕੇ ਸਮਝ ਸਕੋ ਅਤੇ ਆਪਣੀ ਰੋਜ਼ਾਨਾ ਦੀ ਜਿੰਦਗੀ ਵਿੱਚ ਸਹੀ ਤਰਹ ਅਮਲ ਲਾ ਕੇ ਅਪਣੀ ਤੇ ਦੂਜਿਆਂ ਦੀ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਸੁਧਾਰਜੀਵਨ  ਸਕੋ। 
ਇਹ ਤਕਨੀਕਾਂ ਸਕੂਲਾਂ , ਕਾਲਜਾਂ ਜਾਂ ਯੂਨਿਵੇਰ੍ਸਿਟੀ ਵਿੱਚ ਜਾਂ  ETT/JBT/B.Ed/M.Ed or M.A (Edu.) ਵਿੱਚ ਨਹੀ ਪੜ੍ਹ ਯੀਆਂ ਜਾਂਦੀਆ


ਇਹ ਕਿਤਾਬ ਤ੍ਰਿਭਾਸ਼ੀ ਹੈ।  ਇਸ ਕਿਤਾਬ ਵਿੱਚ 80% ਪੌੰਜਾਬੀ , 5% ਹਿੰਦੀ ਅਤੇ 15% ਅੰਗ੍ਰੇਜੀ ਦੀ ਬਰਤੋੰ ਕੀਤੀ ਗਈ ਹੈ।


ਇਸ ਕਿਤਾਬ ਦਾ ਭਾਰਤ ਦੇ ਸੰਬੀਧਾਨ ਵਿਚ ਲਿਖਿਯਾਂ 18 ਭਾਸ਼ਾਵਾਂ ਵਿਚ ਟ੍ਰਾਂਸਲੇਸ਼ਨ ਕੀਤੀ ਜਾ ਰਹੀ ਹੈ ਤਾ ਕਿ ਸਾਰੀ ਦੁਨਿਯਾ ਅਤੇ ਮਹਾਨ ਭਾਰਤ ਦੀ ਮਹਾਨ ਟੀਚਰਾਂ ਨੂੰ ਹੋਰ ਮਹਾਨ ਬਬਣਾ ਸਕੇ।


ਟੀਚਰ ਦਾ ਬਚੇ ਦੇ ਜੀਵਨ ਨੁੰ ਸੰਬਾਰਨ ਵਿੱਚ ਬਹੂਤ ਬਡਾ ਯੋਗਦਾਨ ਹੁੰਦਾ ਹੈ।  ਸੰਸਾਰ ਦਾ ਹਰ ਸ੍ਮਾਜ ਚੰਗੇ ਟੀਚਰ ਦ੍ਵਦਾ ਮਾਨ ਸਨਮਾਨ ਕਰਦਾ ਹੈ। 


ਬਚੇ ਅਪਣੇ ਬੜੇ ਬੁੜੋੰ ਵ ਮਾ ਬਾਪ ਨੁੰ ਸਨਮਾਨ ਦੇਣਾ ਭੁਲ ਜਾਂਦੇ ਹਨ ਪਰ ਅਪਣੇ ਚੰਗੇ ਟੀਚਰ ਦਾ ਸਨਮਾਨ ਕਰਨਾ ਨਹੀਂ ਭੁਲਦੇ। 


ਨੋਟ : ਲੇਖਕ ਨੇ ਹਿੰਦੀ /ਪੰਜਾਬੀ ਸਕੂਲ/ਕਾਲਿਜ ਵਿਚ ਨਹੀ ਪੜੀ। ਇਸ ਕਿਤਾਬ ਤੋਂ ਸਿਖਿਯਾ ਲਵੋ ਤੇ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਵਿਚ ਲਾਭ ਪਾਯੋ।  ਗ੍ਰੇਮਰ ਤੇ ਸ੍ਪੇਲਿੰਗ ਹੀ ਨ ਚੇਕ ਕਰਦੇ ਰਹਿਯੋ। 





Tuesday, September 2, 2014

MATA VAISHNO DEVI PILGRIMAGE

A fortnight back, visit to the shrine of Mata Vaishno Devi via Katra alongwith my OLD parents and others was a marvellous experience.

From Ludhiana I reached Pathankot by train. Stayed with my relatives overnight.


In the morning boarded another train called DEMU at 4.30 am from Pathankot (Punjab) in India. Cleanliness was excellent. Thanks to Indian Railways,


My parents were with me. That was a great feeling, satisfaction and best experience of my life.
The train crossed many tunnels and bridges.The scenery of hills, forests, waterfalls, flowing rivers was mesmerising. I was completely lost and enjoyed the journey.


At 11 am, the train reached Katra station.


The beauty of the station beats many international airports.

Electric elevator, international level open restaurant, A/c lounges, unique antique departmental store are the part of this newly inauguarated railway station by Shri Narender Modi, Prime Minister of India on 4th July,2014 built at a cost of about Rs.1154 crores.

We enjoyed the breakfast at the restaurants. Rates are very reasonable. Even the rates are less than the rates at restaurant in our cities.

Slept for a while, refreshed and deposited the bag of articles in the locker.

Visited the shrine on next morning. Arrangements by Government run Vishno Mata Shrine Board are excellent. All young and old walked without any fear. The entire route up to the shrine  is fully shaded.

I think, this is the nearest and the cheapest "health pilgrimage" from Delhi and surrounding areas.

Fresh, unpolluted air, pure water from the natural water falls energises the body and cleanses the body-systems.I will be spending 2 days every month here to keep my body fit.

Trains are aplenty from all stations like Delhi up to Jammu and Udhampur and even up to Katra. Even new trains from Bombay, Ahmedabad and other far off stations have started.

We enjoyed a lot. The cost was as if we have visited a Fun Park in our city.





Friday, August 29, 2014

Stress Management

मेन्टल प्रेशर


अपने मेन्टल प्रेशर से दूर रहें


प्रेशर से पाइप फट जाती है

^

^
^
^
^
^

परन्तु

याद


रहे

जो कच्चा

कोला

प्रेशर

और

हीट

सहता

है

वही

हीरा

बनता

है


^


^


^


^


सांस

से

जीवन

शुरू

होता

है

सांस

समापत

जीवन


समापत


^

^

^

साँसों

को

संभालना

सीखने

से

जीवन

संभल

जाता

है

यानि

मैडिटेशन

करने

से

सांस

संभल

जाती है


 

YES I'M ALIVE.



This shall be first poem on book #2 (which I have already started). The idea for this poem and the first line is credited to Dr. James Barbaria

I'm on a wire without a net,
Risking my own neck.
Nothing here is a sure bet.
But I'm standing tall!
Any moment I could fall.

I'm alive! I'm alive!
I'm soaring.
I'm alive! I'm alive!
Who said life is boring?

I may be shaking in my shoes
But there's nothing I can't do.
I'm more than flesh and bone.
I'm spirit too!

I'm alive! I'm alive!
I'm soaring.
I'm alive! I'm alive!
Who said life is boring?

I may bend but I won't break.
Fists are clenched; chest is tight.
I'm gonna try
with all my might
Because....

I'm alive! I'm alive!
I'm soaring.
I'm alive! I'm alive!
Who said life is boring?
 
Nothing here
can hold me down.
My spirits high
UP off the ground.

I'm alive! I'm alive!
I'm soaring.
I'm alive! I'm alive!
Who said life is boring?



 By Sandy Wyllie

Thursday, August 28, 2014

POWER OF PLANNED EDUCATION



POWER OF PLANNED EDUCATION

 

Education Loan Cost Benefit Analysis.

 

 

 

A few years back, a petty shop keeper came to a mentor and expressed his inability to get his 3 daughters educated due to financial problem.

 

Shop Keeper: Sir, I am unable to pay the fee and college expenses of my eldest daughter who is studying in B.Sc. (Non-Medicatl)

 

Mentor:    Get your daughter well educated and she will support you financially.

 

Shop Keeper: But this is not possible sir because the cost of education is very high.

 

Mentor:     How much do you earn per month?

 

Shop Keeper:    Rs. 10000 to Rs. 15000 approximately and have to feed a family of 5 and pay the fee and expenses of 3 daughters. Two are in school and the 3rd is in the college.

 

Mentor:  Do you file income tax returns?

 

Shop Keeper:  No sir.

 

Mentor: Start filing income tax returns.

 

Shop Keeper: My income is below taxable limit sir.

 

Mentor:  Even then file your returns.   (Shop keeper looks suspicious.)

However he agreed to file the returns.

 

After 3 years, the shop keeper came to the mentor and broke the news that her daughter has passed B.Sc. (Non-Medical) in first division. He brought sweets too.

 

Shop Keeper: Sir, I wish  she should do P.G.

 

Mentor: Which P.G?

 

Shop Keeper:  Any P.G.

 

Mentor: No any P.G. Ask her to go for MBA.

 

Shop Keeper: But sir for MBA, I don’t have money.

 

Mentor: How much can you spare for MBA?

 

Shop Keeper : (Thinking for a while)  About 1 lac, sir.

 

Mentor:  Right.  Now tell, ask your daughter to clear MAT (Management Aptitude Test)

 

She passed the MAT with very high rank and many institutions offered her admissions.

 

But the fee was a problem. Mentor searched for a good college for her. Efforts of the mentor bought one good college in South was having a fee below Rs. 3.00 lacs including hostel fee. The MBS course was residential. The college readily offered the admission to the brilliant student. Provisional letter of admission was sent through email on receipt of 5% of the amount.

 

Showing the receipt and admission letter to the bank, educational loan of Rs. 4.00 lacs was offered to the student.

 

After 2 years, she was MBA and was selected by a bank through campus interview. She joined the bank and is now working in the bank.

 

CBA (Cost-Benefit-Analyis)

 

Alone Graduation   -  job opening and promotion limited.

After MBA – job through campus interview.

 

Father’s investment     : Just Rs. 20000/-

Education Loan :           Rs. 4,00,000/-  ( No guarantor  or security required Only Income Tax returns required)

Rate of interest    :         10% approximately.

Repayment period :       7 years

Repayment starts:          6 months if the loanee is employed otherwise from the date of passing the final exam.

 

Now.
The daughter earns Rs. 20000/- (estimate) and pays back Rs. 5000/- per month

Balance Rs. 15000/- is retained by the family. Full support to father. Father is now having a Departmental Support.

 

After 7 years entire educational loan is repaid and full salary for the next 25 years is the students earning that comes to about Rs. 80 to 90 lacs during working period directly plus indirect income i.e. earning from the investment and re-investment.

 

Got loan of Rs. 4.00 lacs and earned Rs. 80.00 to Rs. 90.00 plus the best social prestige of carrying degree of MBA. Can any other investment pay this much?

 

 
 

Monday, August 25, 2014

Smile

दोस्तों नमस्कार

मुस्कराना 99  है जीवन का , एक अनमोल खज़ाना
मुस्कारने से बनता है जीवन का हर सफर सुहाना
कामयाबी के लिए हमेशा याद रखना
चाहे 75 जो भी हो जाये , अपनी मुस्कराहट न गबाना।

न मुस्करा सको दूसरों के संघ , अकेले मैं जरूर मुस्कराना
मुस्कराना है सेहत के लिए अजूब खजाना

मुस्कराना 99 है जीवन का, एक अनमोल खज़ाना।




 

Sunday, August 24, 2014

बैल व्यव्हार

बैल व्यव्हार

बहुत दिनों से मेरे मुहल्ले के बच्चे मुझसे कुछ कहने के लिए कह रहे थे और मैं अपनी व्यस्तता के कारण उनको किसी न  किसी बहाने से टाल रहा था।  परन्तु कल उन्हों ने हठ किया और अपने मन की बात कह दी।

बच्चे :                               अंकल हमारे मम्मी  पापा,  चाचा - चाची, ताया- ताई और सभी बड़े हम पर विश्वास नहीं करते।

मैं बोला :                           बच्चो , यह आप को कब और कैसे जानकारी हुई ?

बच्चे : जब भी हम लोग बाहर जाते हैं हमारे बड़े हमारे से सौ सवाल पूछते हैं।  कहाँ गए थे ? बता कर क्यों नहीं गए ? जाने से पहले बड़ों को बताना फ़र्ज़ नहीं है? तुम्हारा फोन भी बंद था ? आज जमाना कैसा है तुम्हे पता 
है ? ऐसे सब प्रशन हमें बहुत परेशान  करते हैं ? हम सम्पूर्ण मन से अपने दोस्तों से मिल भी नहीं सकते।  समय की पाबंदी। हम बहुत परेशान हैं।  आप बड़े हैं हमें इस समस्या का हल बताएं।

मैं मुस्कराया।

बच्चे और हैरान ब परेशान कि अंकल मुस्करा कियूं रहे हैं ?

अन्त में बच्चों ने पूछ ही लिया :     अंकल आप  हंस क्यों रहे हैं?

बचो मुझे अपने विद्यार्थी काल की एक घटना यानी कहानी याद आ गई है ?- मैंने उत्तर दिया।

कहानी का नाम सुनते ही बच्चे अपनी परेशानी भूल गए और मुझ पर कहानी सुनाने के लिए जोर डालने लगे।

हाँ तो आप की परेशानी क्या थी?                                  मैंने पुछा।

नहीं परेशानी बाद में , पहले कहानी                              बच्चे

बच्चों की इस उत्सुकता को देखते हुए मैंने कहा : अच्छा तो सुनो कहानी।

सभी बच्चे अनुशासित हो कर कुर्सियों पर बैठ गए।  कुछ छोटे बच्चे शरारतें कर रहे थे।  उनको बड़े बच्चों ने फटकार लगा चुप होकर बैठने को कहा।

तो बच्चो सुनो।  बात  उन दिनों की है जब आप के अंकल यूनिवर्सिटी में पड़ा करते थे।

छोटे बचे हसने लगे: हा हा हा एंकल भी पढ़ते थे।  मार पड़ती थी ?            हाँ पड़ती थी। 
सभी बच्चे बड़े जोर से हँसे।

कहानी  शुरू :  जब हम बच्चे थे तो   हमे भी अच्छा नहीं लगता था कि हमारे माँ बाप या बड़े बजुर्ग हमसे आने जाने के बारे में क्यों पूछते हैँ ?

हम बच्चों ने अपने प्रोफेसर से यह बात की और हमारे प्रोफेसर ने यह कहानी सुनाई ? सुनायुं ?

सुनायो  न अंकल !

तो सुनो।

एक गरीब किसान था।  बह और उसकी पत्नी दोनों खुद अपना हल जोत कर अपनी जमीन की बोयाई करते क्यूंकि बैल तो उनके पास थे  नहीं।

इतने गरीब थे ? बच्चों ने पूछा।

हाँ बहुत गरीब थे।

किसी द्याबान किसान ने उनको एक बछड़ा दान में दे दिया।  इस  किसान ने प्यार से इस बछड़े का नाम "दिनू" रख दिया।  बछड़ा बड़ा हो होता गया। 

कुछ दिनों के बाद किसी और गाँब के दानी किसान ने इस किसान को एक बछड़ा (गाय या भैंस का बच्चा ) दे दिया।

किसान और उसका परिवार बहुत खुश था कि अब उनके पास दो बछड़े हैं।  जब यह बछड़े बड़े होंगे तो उनको हल ख़ुद नहीं जोतना पड़ेगा बल्कि यह बैल उनके जीवन का पालन पोषण करेंगे और जीवन आसान हो जायेगा।

इस नए बछड़े को प्यार से "दिवेश " पुकारने लगे।

बच्चे बड़ी उत्सुकता से सुन रहे थे। 

बछड़े खेलते कूदते चारा खाते पानी पीते सभी को अच्छे  लगते। कई बार तो बछड़े कपड़े तक खा जाते।  जब बीमार होते तो किसान दूर के हस्पताल से पशुओं के डॉक्टर को बुलाता और  बच्छड़ों का  इलाज़ ब दवाई करवाता।  जब बछड़े बीमार होते या उनको चोट लगती तो घर के सभी छोटे बड़े बड़े चिन्तित रहते।  जब तक कि बछड़े ठीक नहीं हो जाते।  जब बछड़े पूर्ण रूप से चारा खाने लगते तभी किसान ब उसके परिवार बाले मन से खाना खाने लगते।

आहिस्ता आहिस्ता बछड़े बड़े हो गए समय बैल बन गए।

किसान बहुत खुश था कि उसके पास दो बैल हैं।  गाँब के लोग भी बातें करते कि किसान के दिन अब अच्छे आ रहे हैँ।  अब किसान खुश रहा करेगा।

किसान ने दो घंटों खरीदी और बैलों के गले में बांद दी।

घण्टियों की आबाज से ही किसान की पत्नी को पता चल जाता कि बैल जंगल से चार कर आ गए हैं।

एक दिन किसान ने सोचा कि अब समय आ गया है कि बैलों को हल से जोता  जाए।

अँकल बैल को कैसे जोता जाता है ? एक छोटे से बच्चे ने पुछा।

बेटे हल खेत को जोतने बाली यंतिरिका होती है
Image result for Plough

किसान और उसकी पत्नी ने सभी तैयारों की और दोनों बैलों को खेत में ले जा कर एक नारियल फोड़ा
, प्रार्थना की और बैलों को हल से जोड़ा।  परन्तु ये क्या "दीनू " तो चुपचाप शांति से हल से जुड़ा खड़ा है परन्तु "दिवेश " हल से जुड़ ही नहीं रहा और हल को तोड़ कर भागने की कोशिश कर रहा है। 

किसान ने बहुत कोशिश की परन्तु सफलता न मिली।  वह निराश हो गया।  कई दिन यही सिलसिला चलता रहा परन्तु "दिवेश" जिम्मेबारी लेने को तैयार ही नहीं था।

एक दिन हार कर किसान ने "दिवेश " को खुला छोड़ दिया। "दिवेश" बहुत खुश था।  जंगल में घूमता ,अपनी मर्जी की घास खाता, नदी  से पानी पीता और अपनी मर्जी से खुले जंगल में सो जाता।  आजादी ही आजादी।  कोई रोक टॉक नहीं कोई जिम्मेबारी नहीं।

छः महीने बीत गए बड़े माझे से।  एक दिन 'दिवेश " अपने पुरे मन से जंगल मैं भाग रहा था ताजा कि इसके सीँग एक झाड़ी ममें फंस गए।  "दिवेश" ने बहुत कोशिश कि सीँग छूट जाए परन्तु सींग नहीं छूटे बल्कि एक सींग टूट गया।  बहुत दर्द हुआ।  बहुत खून बहा।  "दिवेश" बहुत तड़फा।  बहुत चिल्लाया।  परन्तु जंगल में वह अकेला था इस लिए कोई उसकी सहायता के लिए नहीं आया।  किसान को भी पता न लगा।  घाब से खून बहता रहा।  थोड़े दिनों के बाद घाब में कीड़े पैदा हो गए। 

आहिस्ता, आहिस्ता यह कीड़े सारे शरीर मैं फेल गए और "दिवेश " की असमय मौत हो गई।

अब "दीनू" की सुनो।  "दीनू " सुबह ताजा हरा चारा खाता।  किसान या उसकी पत्नी हर रोज़ उसकी मालिश करती।  "दीनू" और किसान फिर खेत मैं चले जाते।  किसान उसे बड़े प्यार से हल से जोतता और अपना खेत की बोयई करता।  दोपहर को किसान अपना खाना खता तो 'दीनू" को भी पेड़ की छाया के नीचे बांड देता।  हरा चारा डालता, पीने के लिए पानी डालता।  संध्या समय "दीनू " ब "किसान दोनों घर  आते।  किसान का बीटा दीनू की मालिश करता और चारा डालता।

फिर "दीनू " आराम से सो जाता।  जब "दीनू" बीमार होता किसान भाग कर साथ बाले गायों से डॉक्टर को लेकर आता  और दवाई दारू करता।  तब तक घर में ख़ुशी नहीं आती जब तक ":दीनू " ठीक नहीं हो जाता।  "दीनू" था तो बैल परन्तु सभी उससे घर के सदस्य की तरह ही प्यार करते।

बच्चो जो बचे अपनी जिमेदारी को समझते हैं अपने माता पिता की आज्ञा का पालन करते हैं वह जीवन मे सुख भोगते हैं और उनका जीवन भी लम्बा होता है।

आप "दीनू" बनोगे या "दिवेश"

अंकल "दीनू "

माता पिता किसान है हमारा बेलगाम आजाद गैर जिम्मेबार व्यवहार "दिवेश " जिम्मेबार व्यवहार अनुशाषित जीवन "दीनू " है।

अब बच्चों के माता पिता आते हैं और पूछते हैं की आप ने बच्चों को क्या कहा।  बच्चे भी मुस्कराते हैं मैं भी।  यह कहानी तो मुझे और बच्चों को पता है।  परन्तु उनके व्यव्हार का बदलाब माता पिता को महसूस हो रहा है।